खोजे गए परिणाम

सहेजे गए शब्द

"कान पर जूँ न सीलना" शब्द से संबंधित परिणाम

कान पर जूँ न सीलना

परवाना करना, ग़ाफ़िल या बे-ख़बर होना

कान पर जूँ न चलना

बिलकुल पर्वा ना करना, यकसर ग़ाफ़िल या बे-ख़बर होना, क़तई तवज्जा ना करना, कोई आवर क़बूल ना करना

कान पर जूँ न फिरना

बिलकुल पर्वा ना करना, यकसर ग़ाफ़िल या बे-ख़बर होना, क़तई तवज्जा ना करना, कोई आवर क़बूल ना करना

कान पर जूँ न रेंगना

कान पर जूं (तक) न फिरना, बहुत बेपर्वा होना, पूरी तरह से बेखबर या अनजान होना

कान पर जूँ तक न रेंगना

कान पर जूँ नहीं फिरती

(सांकेतिक) बिलकुल अनजान होना, असावधान होना, लापरवाह होने की जगह, किसी की बात पर बिल्कुल ही ध्यान न देना

हज़ार कहो उसके कान पर एक जूँ नहीं चलती

कुछ कहो इस पर-असर ही नहीं होता

कान पर क़लम रखना

लिखने के लईए तैयार रहना, लिखने पर आमादा रहना, कान के सहारे क़लम लटकाना

क़लम कान पर रखना

लिखने के लिए हरवक़त तैयार रहना, लिखने पर मुस्तइद होना, अगले ज़माने में मुंशी लोग अपनी शनाख़्त के तौर पर क़लम कान पर रखते थे

कानों पर जूँ न रेंगना

बे-ख़बर और बे-हिस होना, तवज्जा ना देना, ग़ाफ़िल होना

कानों कान न जानना

कान पर क़लम धरना

लिखने के लईए तैयार रहना, लिखने पर आमादा रहना, कान के सहारे क़लम लटकाना

आवाज़ पर कान रखना

आवाज़ सुनने का मंज़र रहना, आवाज़ सुनने की तरफ़ मुतवज्जा होना

कताज़ी पर बस न चला तुर्की के कान ऐंठे

कुम्हार पर बस न चला गधिया के कान ऐंठे

किसी के किए की दूसरे को सज़ा देना, शक्तिशाली पर बस नहीं चलता तो निर्बल को दबाते हैं

कानों कान ख़बर न होना

पूरी तरह से अज्ञानी होना, बिल्कुल ख़बर न होना, बिलकुल अनजान होना, पूरी तरह अँधेरे में रहना

आवाज़ पर कान लगाए होना

आवाज़ सुनने का मंज़र रहना, आवाज़ सुनने की तरफ़ मुतवज्जा होना

आवाज़ पर कान लगाए रहना

आवाज़ सुनने का मंज़र रहना, आवाज़ सुनने की तरफ़ मुतवज्जा होना

कानों पर जूँ तक न रेंगना

बे-ख़बर और बे-हिस होना, तवज्जा ना देना, ग़ाफ़िल होना

मुँह पर न थूकना

काटी उँगली पर न मूतना

ज़रा भी हमदर्दी न करना, अत्यधिक आलसी या बेदर्द हो जाना

मुँह पर न कहना

सामने न कहना, पीठपीछे कहना

मुँह पर न थूकना

बहुत नफ़रत करना, निहायत हक़ीर और नाक़ाबिल इअलतफ़ात समझना

मुँह पर न रखना

۱۔ सामने ना कहना, रूबरू ना कहना

आँख से देखा न कान से सुना

'इराक़ी पर बस न चला गधे के कान ऐंठे

ज़बरदस्त पर बस ना चला तो ग़रीब को मारने / सताने लगे, धोबी से बस ना चले गधे के कान उमेठे

तबी'अत एक रंग पर न रहना

एक हाल पर तबीयत का क़ायम ना रहना

जान जाए पर आन न जाए

ख़ानदानी वक़ार ज़िंदगी से ज़्यादा अज़ीज़ होता है, यास वज़ा के लिए हयात जैसी मता अज़ीज़ क़ुर्बान की जा सकती है

मुँह पर नाक न होना

प्रतीकात्मक: निर्लज होना, बेहया होना, लज्जा, अहम, सम्मान, ख्याति आदि का ख़्याल ना होना

मुँह पर नूर न होना

चेहरे पर तेज न होना, चेहरे का कुरूप होजाना

कान-ओ-कान

बहुत थोड़ा, कण भर, ज़रा सा

आवाज़ पर कान धरना

आवाज़ सुनने की ओर ध्यान देना

लाख जाए पर साख न जाए

दमड़ी चली जाये पर चमड़ी ना जाये, पैसा चला जाये मगर इज़्ज़त बरक़रार रहे, जान जाये आन ना जाये

आँख पर मैल न होना

त्यौरी पर बल न पड़ना, बिल्कुल नागवार न गुज़रना

कान आवाज़ पर लगे रहना

आहट पर ध्यान होना, किसी की आमद का अंज़ार होना

आवाज़ पर कान लगे रहना

आवाज़ पर कान लगाए रहना (रुक) का लाज़िम

आवाज़ पर कान लगे होना

आवाज़ पर कान लगाए रहना (रुक) का लाज़िम

लोटा चौकी पर न रखवाऊँ

इस से ज़लील से ज़लील काम भी ना लूं, इज़हार-ए-नफ़रत के लिए कहते हैं

चौकी पर लोटा न रखवाऊँ

कमाल हक़ारत ज़ाहिर करने के मौक़ा पर औरतें बोलती हैं, मामूली और अदना काम भी ना कराऊं

ज़मीन पर जाए न होना

गुंजाइश या क्षमता न होना, काफ़ी न होना, कहीं ठिकाना न होना

सर पर आँखें न होना

बसारत से आरी होना , बेअक़ल होना

नाक न कान नथ बालियों का अरमान

बेवक़ूफ़ी की राह से बेमहल अरमान है

मुँह पर नूर न होना

चेहरे की शादाबी और ताज़गी जाती रहना, चेहरा बेरौनक होना

मुँह पर नाक न होना

बेग़ैरत, बेशरम होना, नंग-ओ-नामूस का ख़्याल ना होना, बेइज़्ज़त होना

मुँह पर दाना न रखना

बिलकुल न खाना, तनिक भी न खाना, एक दाना तक न खाना

छान पर फूँस न होना

मुफ़लिस कलांच, कोड़ी कोड़ी को मुहताज होना, ऐसा मुफ़लिस जो अपने छप्पर पर फूंस भी ना डलवा सके

दाँत पर मैल न होना

बहुत लाचार होना, बहुत असहाय और मुफ़लिस होना, भूखे मरना

दाँतों पर मैल न होना

मुफ़लिस होना, ग़रीब होना, भूखे रहना

दाँत पर न रखा जाना

बहुत ज़्यादा खारा और नमकीन होना, खट्टापन की अधिकता के कारण दांतों को अच्छा न लगना

मुँह पर कुछ न कहना

कान-काँटा

۱. सबक़त ले जाना, मात करना, फ़ौक़ियत रखना , नीचा दिखाना

टाँग-कान

पश्चिमी समुद्र के सदाबहार पेड़ों की एक जाति

टाँट पर ऐक बाल न रहना

۔(कनाएन) मुफ़लिस होजाना

कान-बाँधा

सर पर चार उँगलियाँ न रखना

सलाम तक ना करना, सलाम के लिए हाथ भी ना उठाना

लोटा चौकी पर भी न रखवाऊँ

रुक : लौटा चौकी पर ना रखवाओं

कान-ए-ज़र

सोने की खान, स्वर्णाकर।

मुँह पर दाना न रखना

बिलकुल ना खाना, ज़रा ना खाना, नाम को ना खाना

मुँह पर कुछ न रखना

۲۔ ज़बान पर ना लाना

ये मुसीबत ख़ुदा किसी पर न डाले

किसी सख़्त मुसीबत के मौके़ पर कहते हैं कि अल्लाह ताला रहम करे, ये ऐसी मुश्किल है कि किसी पर ना पड़े

हिन्दी, इंग्लिश और उर्दू में कान पर जूँ न सीलना के अर्थदेखिए

कान पर जूँ न सीलना

kaan par juu.n na siilnaaکان پَر جُوں نَہ سِیلْنا

मुहावरा

कान पर जूँ न सीलना के हिंदी अर्थ

  • परवाना करना, ग़ाफ़िल या बे-ख़बर होना
rd-app-promo-desktop rd-app-promo-mobile

کان پَر جُوں نَہ سِیلْنا کے اردو معانی

  • پروانہ کرنا ، غافل یا بے خبر ہونا .

सूचनार्थ: औपचारिक आरंभ से पूर्व यह रेख़्ता डिक्शनरी का बीटा वर्ज़न है। इस पर अंतिम रूप से काम जारी है। इसमें किसी भी विसंगति के संदर्भ में हमें dictionary@rekhta.org पर सूचित करें। या सुझाव दीजिए

संदर्भग्रंथ सूची: रेख़्ता डिक्शनरी में उपयोग किये गये स्रोतों की सूची देखें .

सुझाव दीजिए (कान पर जूँ न सीलना)

नाम

ई-मेल

प्रतिक्रिया

कान पर जूँ न सीलना

चित्र अपलोड कीजिएअधिक जानिए

नाम

ई-मेल

प्रदर्शित नाम

चित्र संलग्न कीजिए

चित्र चुनिए
(format .png, .jpg, .jpeg & max size 4MB and upto 4 images)
बोलिए

Delete 44 saved words?

क्या आप वास्तव में इन प्रविष्टियों को हटा रहे हैं? इन्हें पुन: पूर्ववत् करना संभव नहीं होगा

Want to show word meaning

Do you really want to Show these meaning? This process cannot be undone

Recent Words