अधिक खोजे गए शब्द

सहेजे गए शब्द

अधिक खोजे गए शब्द

ज़न-मुरीद

अपनी पत्नी से बहुत प्यार करने वाला (व्यक्ति), पत्नि के इशारों पर चलने वाला, जोरू का ग़ुलाम, अपनी पत्नी को ही सब कुछ समझनेवाला, स्त्रीजित, भार्याजित, पत्नीभक्त, पत्नीव्रती

कुड़माई

शादी के पूर्व रिश्ता पक्का करने के लिए की जाने वाली रस्म, सगाई, शादी तै करना, रिश्ता करना

दूध-शरीक बहन

ऐसी बालिका जो किसी ऐसी स्त्री का दूध पीकर पली हो जिसका दूध पीकर और कोई बालिका या बालक भी पला हो, धाय संतान, दूधबहिन, दूधबहन

बाग़ी

प्रभुसत्ता के विरुद्ध तथा शासन उलटने के उद्देश्य से सैनिक विद्रोह करने वाला व्यक्ति, सरकश, विद्रोही, राजद्रोही, असंतुष्ट

हवालात

हिरासत, क़ैद, पहरे अथवा चौकसी में रखना (एकवचन और बहुवचन के रूप में प्रयुक्त)

ख़ैरात

दरिद्रों, भिखमंगों आदि को दान रूप में दिया जानेवाला धन या पदार्थ, दान पुण्य, दान, भिक्षा

कल आना

चैन आना, संतोष होना, सुकून या संतुष्टि प्राप्त होना

मुर्तसिम

चित्र बनाने वाला, चित्र करने वाला, लिखने वाला, छापने या बनाने वाला, उकेरक

मज़दूर

शारीरिक श्रम के द्वारा जीविका कमाने वाला कोई व्यक्ति, जैसे: इमारत बनाने, कल-कारख़ानों में काम करने वाला, श्रमिक, कर्मकार, भृतक, मजूर

निज़ाम-ए-क़ुदरत

वह व्यवस्था या प्रणाली जो प्रकृति के अनुसार हो, प्रभु का विधान, प्रकृतिक व्यवस्था, प्रकृतिक प्रणाली

शरीर

मनुष्य या पशु आदि के समस्त अंगों की समष्टि। सिर से पैर तक के सब अंगों का समूह, देह, तन, बदन, जिस्म

ज़िम्नी-इंतिख़ाबात

वह चुनाव जो संसद या विधानसभा आदि के रिक्त स्थानों को भरने के लिए संबंधित क्षेत्रों में कराया जाए, उपचुनाव

दस्तूर

प्रथा या रीति, परंपरा, चाल, चलन, रस्म, रीति, रिवाज, तौर, तरीक़ा, परिपाटी, आचार, व्यवहार

वेसर

गदहा, गधा, खच्चर, अश्वतर

औखी

अनुचित बात, बुरी बात या चुभती हुई बात

बियारी

रात का भोजन, ब्यालू

हाथी के दाँत खाने के और दिखाने के और

दिखाने की चीज़ और होती है और काम में लाने की और, दिखावा और चीज़ है व्यवहार और चीज़, दुनिया के लोग बाहर से कुछ अंदर से कुछ और होते हैं

झिलमिल

जगमगाहट, झिलमिलाहट, सितारों की कम-कम चमक, चराग़ों का प्रतिबिंब पानी पर पड़ने की स्थिती

गुमाश्ता

वह मनुष्य जो किसी बड़े व्यापारी या कोठीवाल की ओर से बही आदि लिखने या माल ख़रीदने और बेचने पर नियुक्त हो, तिनिधि, नुमाइंदा, कारकुन, अभिकर्ता, एजेंट

सर तन से जुदा करना

सर या गर्दन काटना, जान से मारना

Home / Blog / Sahi vs Sahih: Do You Know the Difference?

Sahi vs Sahih: Do You Know the Difference?

by Rajat Kumar 06 November 2021 2 min Read

Sahi vs Sahih: Do You Know the Difference?

Harf-e-ghalat ko sun kar dar-pai na khuun ke hona
Jo kuchh kiyaa hai main ne pahle use sahi kar
Meer Taqi Meer

It’s a classic case of identity-swipe, but with a word as its subject, not person!

Give it a guess, how often do you use the word ‘sahi’ in your everyday speech?

Ah, forget bothering, it’s not worth the sweat!
‘Aa to sahi’, ‘Aisa ho to sahi’, ‘Nahin to na sahi’, and countless other phrases.

Sahi is mainly used as an article of emphasis in Urdu. But, as always, there is much more to it.

All of us who’ve been scolded by our elders for our childish stupidities must’ve endured the wrath of this phrase, ‘Ise to sahi aur ghalat mein farq maaluum hi nahin hai’.

What you see above is actually the Arabic word ‘Sahiih’, that’s gradually metamorphosed into ‘Sahi’. Moreover, the two differ in script as well, the Arabic ‘Sahiih’ is written as ‘صحيح’ whereas its Hindustani twin ‘Sahi’ is scribed as ‘سہ'.

The many meanings attributed to Sahih range from healthy, entire, real, correct, to signature, and attestation.

The same Sahih gives us the words ‘Sehat’, which is correctly pronounced as ‘Sihhat’ meaning health, soundness, and Tas.hih meaning correction, or making something right. 

Moreover, Sahih too is used as an article of emphasis; Yaqin had an entire Ghazal with the emphatic radeef ‘to Sahih’:

Dukh to detaa hai karun main tujh ko hairaan to sahih
Baaghbaan ab ke ujaaDe yu gulistaan to sahih

Inamalluh Khan Yaqin

Notice how deeply the meanings of Sahih and Sahi cross each other? It is precisely this intercross that has made speakers for over two centuries use the two words interchangeably. 

Here’s another interesting insight for you, in Marathi, the word ‘Dast-KHat’ is taken in for the word ‘Sahi’, i.e. they say ‘Dast-Khat Hai’ as in ‘Sahi hai’ or correct; a word that we use for signature.

The roots of this analogy-cum-anomaly again lie in the meanings of ‘Sahih’. The reason behind ‘Dast-Khat’ connoting ‘Sahi’ is that a signature is only marked on a paper that is correct or, again, Sahih.

Of course, there’s no rigid rule that forces us to use Sahi for Sahih or vice versa. It’s just a strange inquisitiveness that drives us language-buffs to know more, and avoid hearing:

‘Ise to SAHIH aur ghalat mein farq maaluum hi nahin hai’

 


बोलिए

Delete 44 saved words?

क्या आप वास्तव में इन प्रविष्टियों को हटा रहे हैं? इन्हें पुन: पूर्ववत् करना संभव नहीं होगा

Want to show word meaning

Do you really want to Show these meaning? This process cannot be undone

Recent Words