खोजे गए परिणाम

सहेजे गए शब्द

"तक़्सीम-ओ-बाज़-तक़्सीम" शब्द से संबंधित परिणाम

तक़्सीम-ओ-बाज़-तक़्सीम

जाह-ओ-मंसब, जाह-ओ-मंज़िलत

निशस्तंद-ओ-गुफ़्तंद-ओ-बर्ख़ास्तंद

(फ़ारसी कहावत उर्दू में मुस्तामल) बैठे, बातें कीं और महफ़िल बर्ख़ास्त , ऐसे जलसे या गुफ़्तगु के मुताल्लिक़ कहते हैं जिस में कोई नतीजा ना निकले , वक़्त ज़ाए करना, कुछ ना करना

शादाँ-ओ-ख़ंदाँ

हंसी-खुशी

नौ'-ओ-जिंस

ईं-ओ-आँ

ये और वो, यह संसार और इसके पश्चात का संसार, लोक और परलोक

इंकिसार-ओ-'इज्ज़

हमाँ-ओ-हमीं

इंसाफ़-ओ-'अदल

न्याय एवं निष्पक्षता

मंसूस-ओ-मा'रूफ़

'इज्ज़-ओ-इंकिसार

विनम्रता, दीनता, नम्रता, विनयशीलता, अधीनता, बिनती, निवेदन

इंसाफ़-ओ-'अदालत

न्याय एवं न्यायालय

'इज्ज़-ओ-इंकिसारी

अजुज़-ओ-इन्किसार, विनम्रता, अधीनता

मल्जा-ओ-मआब-ए-'आलम-ओ-'आलमियाँ

लब-ओ-दंदाँ

योग्यता, क़ाबिलीयत, विद्वत्ता।।

शस-ओ-पंज

हैरानी, उधेड़बुन, संकोच, अंदेशा, दुविधा

चूँ-ओ-चंद

असबाब-ए-रंज-ओ-'ऐश

दुःख और सुख का कारण, आनंद और पीड़ा का साधन

तंज़-ओ-तश्नी'

ताना महना, छेड़छाड़, जली-कटी बात

शश-ओ-पंज में

मरंज-ओ-मरंजाँ

वह व्यक्ति जो हर दशा में प्रसन्न रहे और किसी का दिल न दुखाए, जिसकी प्रवृत्ति सबसे मिलते रहने तथा प्यार मोहब्बत बनाये रखने की हो, शांत प्रकृति का व्यक्ति, मिलनसार

सिर्र-ओ-'अयाँ

इंतिख़ाब-ए-ख़ास-ओ-'आम

बंद-ओ-बस्त-ए-'आलम

दुनिया की व्यवस्था, योजना

पस्त-ओ-बुलंद-ए-'आलम

दुनिया की ऊंचाई और नीचाई

हक-ओ-तंसीख़

बिसात-ए-सुख़न-ओ-नग़्मा-ओ-अश'आर

शमशीर-ओ-सिनाँ

तीर और तलवार, युद्ध-सामग्री

हंगामा-ए-ईन-ओ-आँ

ए'तिबार-ए-जिस्म-ओ-जाँ

कस्र-ओ-इंकिसार

विनम्रता, दीनता

नंग-ओ-नामूस

लज्जा, ग़ैरत

तल्ख़-ओ-शीरीं

शाब्दिक: कड़वा और मीठा, प्रतीकात्मक: अच्छा-बुरा, सुखद और अप्रिय, बुरा-भला

महकमा-ए-'अदल-ओ-इंसाफ़

पसंदीदा-ए-ख़ास-ओ-'आम

तंतना-ए-'इशरत-ओ-कामरानी

बा'इस-ए-नंग-ओ-'आर

बदनामी और शर्म के कारण

नामूस-ओ-नंग

पैमान-ओ-सौगंद

बुलंद-ओ-पस्त

ऊँचा-नीचा, ऊँच-नीच, उच्च और नीच

पस्त-ओ-बुलंद

ऊँचा-नीचा, ऊँच-नीच, दुःख-सुख, रंज-राहत, अच्छा-बुरा, नेकी-बदी, गर्म-सर्द, बुराई भलाई

सरमद-ओ-मंसूर

एहसान-ओ-'अता

शश-ओ-पंज

(शाब्दिक) छः और पाँच

मसर्रत-ओ-इंबिसात

बुलंदी-ओ-पस्ती

ऊपर-नीचे, उन्नति-पदोन्नति, उथ्थान और पतन

शोख़-ओ-शंग

वह व्यक्ति जो बहुत ही चुलबुला, चतुर और सुंदर हो, चंचल, शरीर (प्रायः प्रेमिका)

मंबा'-ओ-मख़रज

बंद-ओ-बस्त-ए-इस्तिमरारी

(क़ानून) खेतों और ज़मीनों को वह बंदोबस्त जो एक बार निश्चित हो जाए और फिर कभी न बदले, जैसे: बंगाल का बंदोबस्त

मय-ए-रामिश-ओ-रंग

राग रंग की शराब; (लाक्षणिक) ऐश और ख़ुशी

शस-ओ-पंज में गुज़रना

उलझन और परेशानी में बसर होना

'अक़्ल-ओ-होश सँभालना

समझ और ग्रहणशक्ति हासिल करना, अक़लमंद होजाना, समझ और होश का पक्का हो जाना, होश ठिकाने हो जाना

शस-ओ-पंज में रहना

हरवक़त फ़िक्रमंद रहना, तरद्दुद में रहना, उलझन और परेशानी में मुबतला रहना

शस-ओ-पंज में रखना

फ़िक्र या तरद्दुद में मुबतला रखना, परेशान करना

शस-ओ-पंज में होना

फ़िक्र-ओ-अंदेशा या उधेड़बुन में रहना, उलझन का शिकार होना, परेशान होना

हैबत-ओ-उंस

मुहतमिम-ओ-मुंसरिम

सुल्ह-ओ-जंग

लड़ाई और मेल, युद्ध और संधि।

नसीहत-ओ-पंद

मौलिद-ओ-मंशा

जन्म भूमि, अर्थात उत्पत्ति या वतन

हिन्दी, इंग्लिश और उर्दू में तक़्सीम-ओ-बाज़-तक़्सीम के अर्थदेखिए

तक़्सीम-ओ-बाज़-तक़्सीम

taqsiim-o-baaz-taqsiimتَقْسِیم و باز تَقْسِیم

تَقْسِیم و باز تَقْسِیم کے اردو معانی

اسم، مؤنث

  • ایک بٹوارے کے بعد دوبارہ بٹوارہ ہونا ، تقسیم در تقسیم .

संदर्भग्रंथ सूची: रेख़्ता डिक्शनरी में उपयोग किये गये स्रोतों की सूची देखें .

सुझाव दीजिए (तक़्सीम-ओ-बाज़-तक़्सीम)

नाम

ई-मेल

प्रतिक्रिया

तक़्सीम-ओ-बाज़-तक़्सीम

चित्र अपलोड कीजिएअधिक जानिए

नाम

ई-मेल

प्रदर्शित नाम

चित्र संलग्न कीजिए

चित्र चुनिए
(format .png, .jpg, .jpeg & max size 4MB and upto 4 images)
बोलिए

Delete 44 saved words?

क्या आप वास्तव में इन प्रविष्टियों को हटा रहे हैं? इन्हें पुन: पूर्ववत् करना संभव नहीं होगा

Want to show word meaning

Do you really want to Show these meaning? This process cannot be undone

Recent Words