खोजे गए परिणाम

सहेजे गए शब्द

"दिन के तीन सो साठ दिन हैं" शब्द से संबंधित परिणाम

दिन के तीन सो साठ दिन हैं

आज बदला न ले सके तो उम्र पड़ी है कभी न कभी बदला लेने का अवसर मिल ही जाएगा, आज नहीं, तो फिर देखा जाएगा, हम बदला लेकर रहेंगे

एक दिन के तीन सौ साठ दिन

बदला लेने के लिए बहुत समय है

तीन दिन गोरू में भी भारी हैं

क़ब्र में तीन दिन भारी होते हैं

क़ब्र में तीन दिन तक मुर्दे का हिसाब किताब होता है (जो बहुत कठिन माना जाता है), हर काम के शुरू में परेशानी आती है

तीन दिन क़ब्र में भी भारी होते हैं

मरने के बाद तीन दिन तक क़ब्र में फ़रिश्ते हिसाब लेते हैं, अर्थात यह है कि दुनिया के बखेड़े बहुत हैं, मनुष्य को ईश्वर की याद हर समय करनी चाहिए, मरने के बाद भी आदमी का परेशानियों से पीछा नहीं छूटता

सब दिन ख़ुदा के हैं

जब सौभाग्य और दुर्भाग्य को किसी विशेष दिन से निर्धारित करते हैं तब कहते हैं

जब च्यूँटी के मरने के दिन क़रीब आते हैं तो उस के पर निकलते हैं

आदमी ख़ुद अपनी मुसीबत को दावत देता है, ऐसा काम करने के मौक़ा पर बोलते हैं जिस का अंजाम ख़राबी हो

तीन दिन

कुछ दिन, थोड़ी अवधि

धन के पंद्रह मगर पचीस, चिल्ले के दिन हैं चालीस

धन इस बुरज का नाम है जिस को क़ौस कहते हैं और मगर कोई हिदी बोलते हैं, जब आफ़ताब इन बुर्जों में आता है तो हिंद में मौसिम-ए-सर्मा होता है पस कोई काम वक़्त मसना पर ना होसके तो ये फ़िक़रा बोलते हैं

कुसुम का रंग तीन दिन फिर बद-रंग

कुसुम का रंग जल्दी ख़राब हो जाता है, चार दिन की चांदनी फिर अंधेरी रात, किसी भी वस्तु का सौंदर्य स्थायी नहीं होता

तीन तीन दिन साफ़ गुज़रना

शदीद फ़ाक़ों की नौबत आजाना, (मजाज़न) इंतिहाई मुफ़लिसी का आलम होना

लहद में तीन दिन भारी

रुक : क़ब्र में तीन दिन भारी, क़ब्र में तीन दिन तक हिसाब किताब होता रहता है

तीन दिन का छोकरा हमें सिखाता है

जब कोई कमउमर मश्वरा दे तो उम्र रसीदा कहते हैं

सब दिन चंगा 'ईद के दिन नंगा

जब कोई वक़्त के मुनासिब और इस के मुताबक़ काम नहीं करता तो इस के मुताल्लिक़ कहते हैं

सब दिन चंगा तेहवार के दिन नंगा

जब कोई वक़्त के मुनासिब और इस के मुताबक़ काम नहीं करता तो इस के मुताल्लिक़ कहते हैं

उमंगों के दिन

जवानी के दिन, आशाओं और इच्छाओं के दिन

रंग के दिन

बारह बरस के बा'द घूरे के भी दिन फिरते हैं

बारह बरस के बा'द घूरे के भी दिन फिरे हैं

तंगदस्ती या परेशांहाली हमेशा नहीं रहती

तीन दिन का छोकरा हमें सिखावत बात

जब कोई कमउमर मश्वरा दे तो उम्र रसीदा कहते हैं

दिन अछे होते हैं तो कंकर जवाहर बन जाते हैं

जब भाग्य अच्छा होता है तो नेक काम स्वयं बन जाता है

बरस के बरस दिन

सालाना त्योहार या जश्न के अवसर पर

दिन पड़े हैं

सौ दिन चोर के एक दिन साध का

झूटे का झूट, मकअर् की मक्कारी और चोर की चोरी एक ना एक दिन पकरी जाती है

तमा' के तीन हर्फ़ हैं और तीनों ख़ाली हैं

लोभ में कुछ नहीं रखा

मुरादों के दिन

इच्छा के दिन, ख़्वाहिशों के दिन, जवानी के दिन, अय्याम-ए-जवानी, शबाब का ज़माना, बहार के दिन

मेंह बूँदी के दिन

बारिश का ज़माना, बरसात के दिन

सौ दिन सुनार के, तो एक दिन लोहार का

रुक : सौ सुनार की एक लुहार की

तीन सौ साठ सुनना

बकवास या फ़ुज़ूल बातें बर्दाश्त करना

ये दिन सब के लिये है

मरना सब को है, ये दिन लाज़िमी है , रुक : ये दिन सब को धरा है

सौ दिन चोर के एक दिन शाह का

झूटे का झूट, मकअर् की मक्कारी और चोर की चोरी एक ना एक दिन पकरी जाती है

हल्वा खाने के दिन हैं

दाँत टूट चुके ही, बुढ़ापा आगया है बहुत बूढ़े आदमी की निसबत कहते हैं

सख़्त-मुसीबत के दिन होना

ज़िंदगी के दिन काटना

ज़िन्दगी बसर करना, जीना, अपनी ज़िन्दगी के दिन गुज़ारना

ज़िंदगी के दिन भरना

ख़ुशी या ना ख़ुशी के साथ ज़िंदगी के दिन गुज़ारना, ज़िंदगी के दिन पूरे करना

अंधे के हिसाब दिन-रात बराबर

मूर्ख भले-बुरे में अंतर नहीं कर सकता, मंद-बुद्धि को अच्छे-बुरे के अंतर का ज्ञान नहीं होता

तीन सौ साठ

'उम्र के दिन भरना

ज़िंदगी गुज़ारना, बुरी भली तरह ज़िंदगी बताना

'उम्र के दिन काटना

ये दिन सब के वास्ते है

۔मरना सब को ज़रूर है

नंगा साठ रूपे कमाए, तीन पैसे खाए

जिस की पत्नी और बच्चे न हों वह कम ख़र्च करता है

सौ दिन चोर के ऐक दिन साह का

झूटे का झूट, मकअर् की मक्कारी और चोर की चोरी एक ना एक दिन पकरी जाती है

बहुत दिन पड़े हैं

पर्याप्त समय है

ज़िंदगी के दिन गिनना

मौत का मुंतज़र होना मरने का इंतिज़ार करना, मौत के क़रीब होना

मूए पर तीन दिन भारी

कहा जाता है कि मरुदे की रूह पर तीन दिन तकलीफ़ रहती है, मर्दे से तीन दिन तक आमाल की पुर्सिश होती रहती है

सौ बरस बा'द कूड़े घूरे के दिन भी बहोरते फिरते हैं

कोई शैय सदा एक हाल पर नहीं रहती, बुरे दिनों के बाद भले दिन भी आते हैं

सौ दिन चोर के तो एक दिन कोतवाल का

चोर एक न एक दिन अवश्य पकड़ा जाता है

ज़िंदगी के दिन गिनती के होना

ज़िंदगी के चंद दिन बाक़ी रहना

ज़िंदगी के दिन गुज़ारना

ज़िंदगी के दिन काटना, ज़िन्दगी बसर करना, जीना, अपने जीवन के दिन गुज़ारना

ज़िंदगी के दिन तैर करना

गुज़ारना, बसर करना, रहना, ज़िंदगी के दिन काटना

ज़िंदगी के दिन पूरे करना

रंज और तकलीफ़ में जीवन बिताना, अवांछित ज़िंदगी गुज़ारना, बिना दिलचस्पी के दिन गुज़ारना, इच्छा अनुसार जीवन न गुज़ार पाना

जवानी की रातें मुर्दों के दिन

अह्द जवानी (जिसे ऐश-ओ-इशरत का ज़माना समझा जाता है

ज़ीस्त के दिन भरना

ज़िंदगी के दिन पूओरे करना, तकलीफ़ और रंज में ज़िंदगी बसर करना

कभी घूरे के दिन भी फिरते हैं

ज़माना बदलता रहता है, कभी ग़रीबों और कमज़ोरों का ज़माना भी बदल जाता है, उन के भी अच्छे दिन आ जाते हैं, ग़रीब और कमज़ोर हमेशा ग़रीब कमज़ोर नहीं रहते, बारह बरस में घूरे के भी दिन फिर जाते हैं

ज़िंदगी के दिन भारी होना

ज़िंदगी का कष्टदायक होना, दुख दर्द से भरी ज़िंदगी होना

क़त्ब के दिन

दिल्ली में क़ुतुब साहिब के मेले के दिन

'उम्र के दिन पूरे होना

'उम्र के दिन पूरे करना

तीन दिन की बाद्शाही

प्रतीकात्मक: वीवाह से चौथी तक की अवधी जिसमें दूल्हा को ''नौशाह'' कहते हैं

दिन लगे हैं

मौत के दिन क़रीब हैं

हिन्दी, इंग्लिश और उर्दू में दिन के तीन सो साठ दिन हैं के अर्थदेखिए

दिन के तीन सो साठ दिन हैं

din ke tiin so saaTh din hai.nدِن کے تِین سو ساٹھ دِن ہَیں

अथवा - एक दिन के सौ साठ दिन

कहावत

दिन के तीन सो साठ दिन हैं के हिंदी अर्थ

  • आज बदला न ले सके तो उम्र पड़ी है कभी न कभी बदला लेने का अवसर मिल ही जाएगा, आज नहीं, तो फिर देखा जाएगा, हम बदला लेकर रहेंगे

    विशेष - एक दिन मेहमान, दो दिन मेहमान, तीसरे दिन बलाए जान, (मु.) मेहमान एक-दो दिन के बाद ही एक मुसीबत बन जाता है। (बंगला में भी है-माछ आर अतिथि दुई दिन परेई विष।

  • बदला लेने के लिए बहुत समय है
  • मतलब आज नहीं तो फिर देखा जाएगा, हम बदला लेकर रहेंगे

    विशेष - मुहावरा- एक दिन मेहमान दो दिन मेहमान तीसरे दिन बलाए जान= मेहमान एक-दो दिन के बाद ही एक मुसीबत बन जाता है। बंगला में भी है- माछ आर अतिथि दुई दिन परेई विष।

rd-app-promo-desktop rd-app-promo-mobile

دِن کے تِین سو ساٹھ دِن ہَیں کے اردو معانی

  • آج انتقام نہ لے سکے تو عمر پڑی ہے کبھی نہ کبھی بدلہ لینے کا موقع مل ہی جائے گا، آج نہیں تو پھر دیکھا جائے گا، ہم بدلہ لے کر رہیں گے
  • بدلہ لینے کے لئے بہت وقت ہے
  • مطلب آج نہیں تو پھر دیکھا جائے گا، ہم بدلہ لے کر رہیں گے

संदर्भग्रंथ सूची: रेख़्ता डिक्शनरी में उपयोग किये गये स्रोतों की सूची देखें .

सुझाव दीजिए (दिन के तीन सो साठ दिन हैं)

नाम

ई-मेल

प्रतिक्रिया

दिन के तीन सो साठ दिन हैं

चित्र अपलोड कीजिएअधिक जानिए

नाम

ई-मेल

प्रदर्शित नाम

चित्र संलग्न कीजिए

चित्र चुनिए
(format .png, .jpg, .jpeg & max size 4MB and upto 4 images)
बोलिए

Delete 44 saved words?

क्या आप वास्तव में इन प्रविष्टियों को हटा रहे हैं? इन्हें पुन: पूर्ववत् करना संभव नहीं होगा

Want to show word meaning

Do you really want to Show these meaning? This process cannot be undone

Recent Words